Monday, October 6, 2008

Jin Mata Jeen Mata Temple Dham Sikar Rajasthan

Jin Mata (Jeen Mata) Temple is situated in Raiwara, District: Sikar, Rajasthan. The place can easily be accessed from Jaipur just 110 Km far. Among oldest worship places in Rajasthan, India. Millions of Shardhaloos visit the dham during the year, & main attractions are Navratra's, that occurs bi-annually. In english calendar Month of April and November.

Introduction: Rajasthan is land of worship for many dieties, like Shri Salasarji, Shri Shri Khatu Shyam Baba, Shri Puskarji, the only temple of Bhramaji in world and Gharib Nawaz Khawaza at Ajmer. Maa Durga is worshipped in various Avataars & Roop. Jin Mata is among various Roop of Maa Durga.
Jin Mata is also famous for fullfilling wishes of her devotees, and is popularly knowns as MANAT WALI MATA - Mother who fulfill wishes.

Jin Mata Dham is an organisation mainly arranging and working for the development of the JIN MATA Parisar Premises. During Fair - Melas, Jin Mata Dham arranges for temporary canteen during Mela period and provides for quality food at very nominal or subsidized rates for devotees and visitor, those who have come from far flung places, for Darshan. Several Non-profit and charitable trust have mushroomed providing lodging facility free of charge to thousand of devotees. Shri GANESH MANDIR DHARAMSALA is one of the best & beutiful Dharam Sala I have ever Stayed.

Way to Jin Mata Mandir





A Bird Eye View of JIN MATA MANDIR Complex




A temporary car parking at JIN MATA DHAM


Devotees and Shradhaloos on thier way to JIN MATA DHAM


Eye Bird View of JIN MATA Temple

Some parts of Temple is under expansion.
Repair work is on Progress.















---------------------------------------------------------
Group of Devotees are proceeding towards MAIN TEMPLE.
Thousands of devotee travel miles to visit Jin Mata Dham.
Many do come in Group, rejoicing & celebrating with dhol,
Langada, Dhapli, etc.












----------------------------------------------------------
Some Special Group also do come during Mela.
devotee approach them for blessings





















11 comments:

Deepak said...

Sunday/Monday Main Jin Mata ke Darshan ke liye jaa raha hoon... Isake Pahale bhi Main Jin Mata 2 Times Ja chuka hoon. Lekin By Taxi Gaya tha... Abhi Bus se jaa raha hoon... ls. tell me Proper Root & Bus Scheduled Etc. Main Salasar, se Niklunga.. Khatu Shayam, Jinmata, Samod Devi Then Last Jaipur..

kallu said...

hello..
i want to go to jin mata temple, i am currently in pune and want to leave for jin mata from nanded maharshtra can you tell me proper way to reach to jin mata temple...
email: kalyanikhandelwal@gmail.com

Harish said...

Harish Soni

Jin Mata dham ek aisa dham h jaha jakar Manav ko man ki santusthi milti h me jin mata 28 march ko ja raha hu

Jai Jin Mata ki jai
Mobile no. 9416711491,08003154163

Prateek said...

thanks....:)

VM-Magazine said...

great work man. jai mata di

Ved Krishnan said...

Very nice step taken by u Manoj G. We r completely dedicated to Jin Mata, Jin Mata is our Kul Devi. " Om Namoh Jin Mata , Maa Kust Harni Bhawani "

Sudarshan Singh Shekhawat said...

जीण माता व भाई हर्षदेव का अद्भुत आख्यान
भाई बहिन के दैवीय प्रेम का अनुपम उदाहरण है

-----------------------------------------------------
कलयुग में शक्ति का अवतार माता जीण भवानी का भव्य धाम सीकर जिले के रेवासा पहाडियों में स्थित है। ये भव्य धाम चारों तरफ़ से ऊँची ऊँची पहाडियों से घिरा हुआ है।मॉं जीण माता का पूर्ण और वास्तविक नाम जयन्तीमाता है. यहाँ सीकर से गौरियाँ आकर जीणमाता की ओर जाने वाली सड़क से जाया जा सकता है यह कहा जाता है कि इस मंदिर को करीब एक हजार साल पहले बनाया गया था. लाखो श्रद्धालु यहाँ हर साल चैत्र और अश्विन माह में नवरात्रि मेले के समय में एकत्र होते है।
कथा अनुसार की जीणमाता ओर हर्षनाथ दोनों भाई-बहन थे जिनमे आपस में बहुत प्रेम था. राज कुमारी जीण बाई को संदेह मात्र हुआ की उनके भाई हर्ष नाथ उनसे अधिक उनकी भाभी को प्रेम करने लगे हैं इसी की परीक्षा में एक समय की बात थी जब दोनों ननद ओर भाभी पानी लाने के लिए गई तो दोनों में अनबन हो गई जीण ने कहा मेरा भाई पहले घड़ा मेरा उतारेगा ओर भाभी ने कहा पहले मेरा इस तरह दोनों ननद भाभी लडती हुई घर पहुंची परन्तु इस बात का पता हर्ष को नही था. इस तरह हर्ष ने पहले घड़ा सिर से अपनी पत्नी का उतारा जिससे बहन नाराज हो गई. वही अनबन दोनों भाई ओर बहन के प्रेम में जहर घोल दिया जिसके कारण बहन अपने भाई हर्ष से नाराज होकर इन पहाडियों की बीच आकर तपस्या करने लगी ओर भाई हर्ष पर्वत पर जाकर तपस्या करने लगा.
हर्षदेव व जीण माता का अनुपम आख्यान भाई बहिन के दैवीय प्रेम का अनुपम उदाहरण है | लौकिक मोह किस प्रकार पारलौकिक स्वरुप धारण कर पूजनीय हो गया, यह कथा प्रदर्शित करती है | राज कुमारी जीण बाई को संदेह मात्र हुआ की उनके भाई हर्ष नाथ उनसे अधिक उनकी भाभी को प्रेम करने लगे हैं - उनका भव बंधन टूट गया | और वे देवाराधन व तपस्यारत हो गई दुरूह जंगल में और महामाया भगवती भ्रामरी मां की उपासना करते करते उनके दिव्य स्वरुप मय हो गयीं | राज कुमार हर्षनाथ भी घर द्वार छोड़कर शिवाराधन तल्लीन होकर भैरव के रूप में पूजित हुए ।
एतिहासिक तथ्यों के अनुसार औरंगजेब ने मंदिर ध्वंस करने अपनी सेना भेजी, किन्तु सेना मन्दिर को ध्वस्त नही कर सकी क्योंकि ना जाने कहाँ से भवरों (बड़ी मधुमख्खी) के झुंडों ने सेना पर आक्रमण कर दिया | घवराई हुई सेना भाग खडी हुई | फिर औरंगजेब ने माता से माफ़ी मांगी ओर उसके चरणों में गिर पड़ा. औरंगजेब ने भी सवा मन तेल का दीपक अखंड ज्योति के रूप में मंदिर में स्थापित किया जो आज तक प्रज्वलित है | आज भी माता सभी दुखी लोगो के दुःख हरती है ओर उनको सुख देती है. ऐसी हे जीणमाता.
बोलो भवरॉं की रानी की जय ।
मॉं भ्रामरी स्‍वरूपा जीण मात की जय ।।

Vaibhav Agrawal said...

jai jeen mata ki
thanks manoj ji
great job

Rahul Baradia said...

jai shree JEEN maaata ki jai :)

http://jaishreejeenmaata.wordpress.com/

I have created this blog.. please go through this. If anythings need to be added, let me know. Thank you

Swathi Manikireddy said...

While reading this post and i have really enjoyed it a lot. Jin Mata Temple is a famous temple in Raiwara. Thanks for sharing. Snaps are awesome. See more information about Places of Interest in India

Rajesh Loiya said...

JAI JEEN MATAJI KI. UNKI KRIPA SADA MERE PARIWAR PER RAHE.

I REQUEST ALL DEVOTEES, IF ANYONE HAS GOT A HIGH RESOLUTION (HD) PIC OF JEEN MATA, PL SEND IT ME ON rajesh.loiya@gmail.com. whatever pics are available on the internet are getting distorted when downloading or enlarging.
jai mata ki.

rajesh loiya